RAW का फुल फॉर्म क्या है | What is the full form of RAW in Hindi

What is the full form of RAW in Hindi

रॉ फुल फॉर्म इन हिंदी, what is the full form of RAW in Hindi, Research and Analysis Wing, रॉ का इतिहास, R&AW, रॉ (R&AW) के ऑपरेशन, उपलब्धियां, चुनौतियां

Disclaimer: इस आर्टिकल में दी गई सारी जानकारी पब्लिक प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध है। इसमें ऐसी कोई जानकारी नहीं दी गई है, जिससे हमारे सुरक्षा बलों की गोपनीयता भंग हो। Gyan Prayas सुरक्षा बलों का सम्मान करता है और सार्वजनिक रूप से उपलब्ध जानकारी के आधार पर काम करता है।

What is the full form of RAW in Hindi | RAW का फुल फॉर्म क्या है

भारत के मुख्य खुफिया संगठन को RAW कहा जाता है। RAW का फुल फॉर्म रिसर्च एंड एनालिसिस विंग (Research and Analysis Wing) है।

RResearch and
AAnalysis
WWing

इसका काम बाहरी खुफिया जानकारी इकट्ठा करना, गुप्त ऑपरेशन करना और राष्ट्रीय सुरक्षा से संबंधित विदेश नीति के मुद्दों पर सरकार को सलाह देना है। 1962 में भारत-चीन युद्ध में भारत की खुफिया समिति का खराब प्रदर्शन रहा था, इसके बाद रॉ (RAW) का उदय हुआ। RAW की स्थापना इसके पहले निदेशक, रामेश्वर नाथ काव (Rameshwar Nath Kao) ने सितंबर 1968 में की।

About Research and Analysis Wing | रिसर्च एंड एनालिसिस विंग

रॉ को देश के राष्ट्रीय सुरक्षा हितों की रक्षा के लिए भारत की सीमाओं के बाहर से खुफिया जानकारी इकट्ठा करने और उसका विश्लेषण करने का काम सौंपा गया है। रॉ सीधे प्रधानमंत्री कार्यालय के अधीन संचालित होती है। आतंकवाद, परमाणु प्रसार और भू-राजनीतिक विकास सहित विभिन्न विषयों पर जानकारी इकट्ठा करने के लिए, यह एजेंटों, मुखबिरों और स्रोतों का एक वैश्विक नेटवर्क बनाए रखता है।

रॉ संगठन भारत में महत्वपूर्ण खुफिया संघटनों में से एक है, जिसकी जिम्मेदारी सरकार को गहन और रणनीतिक खुफिया जानकारी प्रदान करने की है जो उन्हें जटिल निर्णय लेने में सहायता कर सकती है। संगठन दुनिया भर में अन्य खुफिया एजेंसियों, जैसे CIA, MI6 और मोसाद (Mossad) के साथ समन्वय, संचालन और सूचनाओं का आदान-प्रदान करता है।

Features of RAW | रॉ की विशेषताएं

  • Research and Analysis Wing खुफिया जानकारी इकट्ठा करने और भारत के राष्ट्रीय हितों की रक्षा के लिए विदेशों में गुप्त गतिविधियां चलाता है।
  • भारत सरकार की जानकारी के बिना गुप्त रूप से किए गए ऑपरेशनों को एजेंसी द्वारा “गुप्त ऑपरेशन (covert operations)” के रूप में जाना जाता है।
  • उन्नत उपकरण: खुफिया जानकारी हासिल करने और गतिविधियों को अंजाम देने के लिए, RAW के पास उन्नत उपकरणों तक पहुंच है।
  • उच्च कौशल स्तर वाले ऑपरेटिव: एजेंसी गुप्त संचालन, काउंटर इंटेलिजन्स और निगरानी सहित प्रशिक्षण की एक विस्तृत श्रृंखला के साथ कार्यकर्ताओं को नियुक्त करती है।
  • बहु-विषयक दृष्टिकोण: RAW खुफिया जानकारी एकत्र करने के लिए अपने बहु-विषयक दृष्टिकोण में तकनीकी और मानव खुफिया जैसे कई स्रोतों से जानकारी को जोड़ती है।
  • भूराजनीतिक फोकस: रॉ उन देशों और क्षेत्रों पर खुफिया जानकारी प्राप्त करने पर ध्यान केंद्रित करता है, जो भारतीय दृष्टिकोण से महत्वपूर्ण हैं, जैसे चीन, पाकिस्तान आदि।

Essential History of R&AW | रॉ का इतिहास

1962 का भारत-चीन युद्ध, जिसमें भारत को अपमानित होना पड़ा, यहीं से रॉ (Research and Analysis Wing) की यात्रा शुरू हुई। युद्ध के बाद खुफिया जानकारी एकत्र करने में भारत की कमियों को उजागर करने के बाद सरकार ने एक निष्पक्ष विदेशी खुफिया संगठन की आवश्यकता को पहचाना। इसके जवाब में, भारत की सीमाओं के बाहर से खुफिया जानकारी इकट्ठा करने के इरादे से 21 सितंबर, 1968 को एक अलग खुफिया संगठन के रूप में रॉ (RAW) की स्थापना की गई।

रॉ का प्रारंभिक जनादेश मामूली था, जिसका विशेष ध्यान चीन और पाकिस्तान पर था। इसके मुख्य लक्ष्यों में चीन और पाकिस्तान की सैन्य शक्ति पर खुफिया जानकारी इकट्ठा करना और उनके परमाणु कार्यक्रमों पर नज़र रखना शामिल था। फिर भी जैसे-जैसे समय बीतता गया, रॉ के काम का दायरा बढ़ता गया और इसने गुप्त ऑपरेशन और मनोवैज्ञानिक युद्ध जैसी कई तरह की परियोजनाएँ शुरू कर दीं।

1970 के दशक की शुरुआत में, पाकिस्तान के खिलाफ बांग्लादेशी स्वतंत्रता आंदोलन में मदद करने में रॉ (RAW) महत्वपूर्ण थी, जिसके कारण बांग्लादेश की स्थापना हुई। 1980 के दशक में श्रीलंकाई गृहयुद्ध के दौरान तमिल टाइगर्स विद्रोही समूह का समर्थन करने में भी रॉ महत्वपूर्ण थी।

बदलती भूराजनीतिक परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए 1990 के दशक में रॉ को पुनर्गठित किया गया। इसके कार्यों में अब आर्थिक खुफिया जानकारी, काउंटर इंटेलिजन्स और आतंकवाद भी शामिल है। रॉ ने भारतीय सशस्त्र बलों को महत्वपूर्ण खुफिया जानकारी देकर 1999 में भारत और पाकिस्तान के बीच कारगिल युद्ध जीतने में मदद करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

2008 के मुंबई हमलों के मद्देनजर रॉ में पर्याप्त सुधार और पुनर्गठन किया गया, जिसमें आतंकवाद से निपटने पर नए सिरे से जोर दिया गया और खुफिया जानकारी एकत्र करने के लिए अधिक एकीकृत दृष्टिकोण अपनाया गया।

रॉ ने हाल के वर्षों में कई महत्वपूर्ण ऑपरेशनों में भाग लिया है, जिसमें 2016 में नियंत्रण रेखा के पार सर्जिकल स्ट्राइक और पुलवामा में हमले के जवाब में 2019 में बालाकोट पर छापेमारी शामिल है।

Structure of RAW | रॉ की संरचना

Research and Analysis Wing (R&AW) की संरचना बाहरी खुफिया जानकारी प्राप्त करने और गुप्त गतिविधियों को अंजाम देने के इसके मुख्य उद्देश्यों का समर्थन करती है। एक निदेशक रॉ की देखरेख करता है और सीधे भारतीय प्रधान मंत्री को जवाब देता है। एक उप निदेशक और अन्य वरिष्ठ अधिकारी जो विभिन्न परिचालन इकाइयों और विभागों के प्रभारी होते हैं जो रॉ के निदेशक की सहायता करते हैं।

उनकी विशेषज्ञता और फोकस के क्षेत्र के आधार पर, RAW के संचालन विभाग अलग-अलग होते हैं। रॉ के प्राथमिक प्रभाग निम्नलिखित हैं:

  • बाहरी खुफिया: यह प्रभाग भारत की सीमाओं के बाहर से आने वाली सूचनाओं को इकट्ठा करने और उनकी व्याख्या करने का प्रभारी है।
  • तकनीकी सहायता प्रभाग: इस प्रभाग का लक्ष्य खुफिया जानकारी इकट्ठा करने और संसाधित करने के लिए प्रौद्योगिकी को नियोजित करना है। साथ ही, यह अन्य रॉ विभागों को तकनीकी सहायता भी प्रदान करता है।
  • विमानन अनुसंधान केंद्र: यह प्रभाग हवाई निगरानी और टोही कार्यों को करने के साथ-साथ विमानों के बेड़े का संचालन करने का भी प्रभारी है।
  • संयुक्त खुफिया समिति: संयुक्त खुफिया समिति सभी भारतीय खुफिया संगठनों की खुफिया जानकारी एकत्र करने की गतिविधियों के आयोजन की प्रभारी है।
  • संचालन: भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा लक्ष्यों को पूरा करने के लिए, यह विभाग गुप्त अभियानों के आयोजन और संचालन का प्रभारी है।

इन विभागों के साथ, RAW में विशेष टीमों जैसी कई अन्य परिचालन इकाइयाँ शामिल हैं, जो गुप्त संचालन करने वाले लोगों की एक अत्यधिक कुशल इकाई है। भारत में नागरिक और सैन्य समूह के लोग रॉ के लिए काम कर सकते हैं।

अंततः, रॉ की परिचालन संरचना का उद्देश्य मुख्य रूप से बाहरी खुफिया जानकारी प्राप्त करना, गुप्त संचालन करना और राष्ट्रीय स्तर के सुरक्षा मुद्दों के लिए सरकार को विचार सुझाना है। भारत के सुरक्षा हितों की सुरक्षा के लिए रॉ के सभी उप-विभाग एक-दूसरे के साथ मिलकर राष्ट्रीय मुद्दे पर खतरे पर चर्चा कर सकते हैं।

Operations of RAW | रॉ (R&AW) के ऑपरेशन

Operations of RAW

R&AW के पास इंटेलिजेंस गैदरिंग, काउंटरइंटेलिजेंस और गुप्त ऑपरेशन सहित कई सुरक्षा मिशनों को संचालित करने की जिम्मेदारी है।

इंटेलिजन्स गॅदरिंग: इंटेलिजन्स गॅदरिंग भारतीय सीमाओं के बाहर के स्रोतों से जानकारी एकत्र करने की प्रक्रिया है। इस ऑपरेशन में जो डेटा एकत्र किया जा सकता है, वह प्रतिद्वंद्वी देशों की सैन्य शक्ति, भू-राजनीतिक विकास और कुछ अन्य कारक हो सकते हैं, जो भारत की अखंडता और सुरक्षा को गंभीर रूप से प्रभावित कर सकते हैं। यह ऑपरेशन विभिन्न विभागों के कर्मियों जैसे रॉ एजेंटों, मुखबिरों और अन्य देशों के स्रोतों द्वारा किया जाता है।

काउंटरइंटेलिजेंस: रॉ के साथ कई अन्य देशों के भी अपने खुफिया संगठन हैं, जो भारत सरकार की गतिविधियों पर नजर रखते हैं। इसलिए काउंटरइंटेलिजेंस ऑपरेशन में, रॉ विदेशी संस्थाओं पर नियमित नज़र रखता है और इन संस्थाओं को भारतीय कानून और व्यवस्था को कोई नुकसान पहुंचाने से रोकने के लिए सभी आवश्यक कार्य करता है।

गुप्त ऑपरेशन: रॉ संगठन के पास गुप्त ऑपरेशन करने की गतिविधियाँ होती हैं, जो अत्यधिक गोपनीय होती हैं और इन ऑपरेशनों को करने के लिए केवल विशेष टीम को ही नियुक्त किया जाता है। इस ऑपरेशन में अंतर्राष्ट्रीय क्षेत्रों के बारे में जानकारी इकट्ठा करना, आतंकवादी गतिविधियों पर नज़र रखना, जवाबी जासूसी अभियान चलाना और अन्य देशों के मित्रवत खुफिया संगठनों का समर्थन करना शामिल है।

रॉ के ऑपरेशन आम तौर पर राष्ट्रीय सुरक्षा में भारत के हितों की रक्षा करने और सरकार को रणनीतिक खुफिया जानकारी देने के लिए बनाए जाते हैं। इसके साथ ही, रॉ भारत को सभी दृष्टिकोणों से सुरक्षित रखने के लिए अन्य भारतीय खुफिया संगठनों जैसे इंटेलिजेंस ब्यूरो (Intelligence Bureau) और सैन्य खुफिया निदेशालय (Military Intelligence Directorate) के साथ भी सहयोग करता है।

Achievements of RAW | रॉ की उपलब्धियां

भारत की प्रमुख विदेशी खुफिया एजेंसी Research and Analysis Wing (R&AW) ने पिछले कुछ वर्षों में कई उल्लेखनीय उपलब्धियों में योगदान दिया है। इसकी प्रमुख उपलब्धियों में शामिल हैं:

बांग्लादेश के निर्माण में भूमिका: 1970 के दशक की शुरुआत में पाकिस्तान के खिलाफ बांग्लादेशी स्वतंत्रता आंदोलन में सहायता करने में रॉ महत्वपूर्ण थी, जिसके परिणामस्वरूप बांग्लादेश की स्थापना हुई।

कारगिल युद्ध में रणनीतिक खुफिया जानकारी: ‘इंटेलिजन्स गॅदरिंग’ जैसा कि रॉ द्वारा ऑपरेशन अनुभाग में चर्चा की गई है, हमारे प्रतिद्वंद्वी का डेटा प्राप्त करने के लिए महत्वपूर्ण प्रक्रिया है। यह 1999 के कारगिल युद्ध में किया गया था, रॉ ने प्रतिद्वंद्वी के सैन्य निर्देशांक, उनकी स्थिति, सैन्य आकार आदि के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान की थी। इससे भारतीय सेना को प्रतिद्वंद्वी के सैन्य ठिकानों पर योजना बनाने और हमला करने में मदद मिली।

पाकिस्तान का परमाणु कार्यक्रम: पाकिस्तान 1980 के दशक में परमाणु कार्यक्रम की योजना बना रहा था, जो भारत सरकार के लिए एक गंभीर खतरा था, रॉ ने पाकिस्तान के परमाणु कार्यक्रम के बारे में जानकारी का खुलासा करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई जिसके परिणामस्वरूप अंततः पाकिस्तान पर अन्य देशों से अपनी परमाणु गतिविधि को रोकने का दबाव पड़ा।

सर्जिकल स्ट्राइक: 2016 में पाकिस्तान ने भारत के उरी स्थित सैन्य अड्डे पर हमला किया, जिसमें कई भारतीय सैनिक मारे गए. भारतीय सेना ने जवाबी हमले की योजना बनाई और हमले में सफलतापूर्वक जीत हासिल की। रॉ एजेंसी ने प्रतिद्वंद्वी की जनशक्ति, उनकी स्थिति आदि के बारे में जानकारी प्रदान की।

बालाकोट एयरस्ट्राइक: 2019 में पुलवामा में भारतीय सेना के जवानों पर हमला हुआ था. जवाबी हमले के रूप में, रॉ ने बालाकोट एयरस्ट्राइक 2019 की योजना बनाने और संचालित करने में मदद की। इस हवाई हमले के परिणामस्वरूप पाकिस्तान में आतंकवादियों की प्रशिक्षण सुविधा नष्ट हो गई, जिससे गंभीर क्षति और हताहत हुए।

रॉ ने कई उल्लेखनीय सफलताओं में योगदान दिया है जिनका भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा पर पर्याप्त प्रभाव पड़ा है। इसके योगदान के कुछ उदाहरणों में बांग्लादेशी स्वतंत्रता आंदोलन का समर्थन करने में मदद करना, कारगिल युद्ध के दौरान महत्वपूर्ण खुफिया जानकारी प्रदान करना और पाकिस्तान के परमाणु कार्यक्रम की खोज करना शामिल है। रॉ अभी भी बाहरी खुफिया जानकारी हासिल करने, गुप्त गतिविधियों को अंजाम देने और राष्ट्रीय सुरक्षा से संबंधित मुद्दों पर सरकार को सलाह देने के लिए आवश्यक है।

Challenges of RAW | R&AW की चुनौतियाँ

Challenges of RAW

अपने कार्य को पूरा करने के लिए, Research and Analysis Wing (R&AW) को कई बाधाओं को दूर करना होगा। कुछ चुनौतियों में शामिल हैं:

राजनीतिक हस्तक्षेप: राजनीतिक हस्तक्षेप कभी-कभी रॉ के संचालन को प्रभावित कर सकता है, खासकर राजनीतिक अशांति के समय या जब कोई नया प्रशासन कार्यभार संभालता है। इसके परिणामस्वरूप एजेंसी की प्राथमिकताओं, संसाधनों और नेतृत्व में समायोजन हो सकता है, जो अपने कर्तव्यों को सफलतापूर्वक पूरा करने की क्षमता में बाधा उत्पन्न कर सकता है।

संसाधन की कमी: रॉ के पास एक छोटा बजट है, जो कभी-कभी संचालन करने और खुफिया जानकारी इकट्ठा करने की इसकी क्षमता को प्रभावित करता है। इस वजह से, बड़े संसाधनों तक पहुंच रखने वाले अन्य खुफिया संगठनों से बेहतर प्रदर्शन करना चुनौतीपूर्ण हो सकता है।

अन्य खुफिया एजेंसियों से प्रतिस्पर्धा: रॉ अत्यधिक प्रतिस्पर्धी माहौल में काम करती है जहां भारत और अन्य देशों की कई अन्य खुफिया एजेंसियां संसाधनों और सूचनाओं के लिए प्रतिस्पर्धा करती हैं। इस वजह से, रॉ के लिए ऑपरेशन करना और खुफिया जानकारी इकट्ठा करना चुनौतीपूर्ण हो सकता है, खासकर उन जगहों पर जहां अन्य एजेंसियों ने पहले से ही नेटवर्क बना लिया है।

तकनीकी चुनौतियाँ: RAW को तकनीकी कठिनाइयों का भी सामना करना पड़ता है, विशेष रूप से साइबर सुरक्षा और एन्क्रिप्शन के क्षेत्रों में। प्रौद्योगिकी की प्रगति के साथ शीर्ष पर बने रहने के लिए, रॉ को लगातार नए खतरों के प्रति खुद को ढालना होगा और नई क्षमताओं का निर्माण करना होगा।

खुफिया जानकारी को कूटनीति के साथ संतुलित करना: खुफिया जानकारी एकत्र करने और कूटनीति के बीच संतुलन बनाने की आवश्यकता के कारण रॉ के मिशन कभी-कभी अधिक चुनौतीपूर्ण हो सकते हैं। कभी-कभी एजेंसी को खुफिया जानकारी जुटाने को प्राथमिकता देने और अन्य राज्यों के साथ राजनयिक संबंध बनाए रखने के बीच चयन करना पड़ता है।

सामान्य तौर पर, रॉ की अपने मिशन को पूरा करने की क्षमता के रास्ते में कई तरह की बाधाएँ खड़ी होती हैं, जिनमें राजनीतिक प्रभाव, संसाधन सीमाएँ और अन्य खुफिया एजेंसियों से प्रतिद्वंद्विता शामिल हैं। संगठन का मिशन देश और विदेश में भारत के हितों की रक्षा के लिए महत्वपूर्ण है, और यह भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बना हुआ है।

Future Outlook of RAW | रॉ का भविष्य

भारत का विदेशी खुफिया संगठन Research and Analysis Wing (RAW) आने वाले वर्षों में कई अवसरों और कठिनाइयों का सामना करने के लिए तैयार है। रॉ को निम्नलिखित संभावित वृद्धि और विकास क्षेत्रों से लाभ हो सकता है:

बढ़ी हुई क्षमताएँ: RAW संभवतः अपनी तकनीकी, साइबर सुरक्षा और विश्लेषणात्मक क्षमताओं का विस्तार करता रहेगा। रॉ द्वारा आने वाले वर्षों में इन क्षेत्रों में निवेश करने की संभावना है क्योंकि सोशल मीडिया और अन्य डिजिटल प्लेटफार्मों के उदय के साथ ऑनलाइन व्यवहार की निगरानी और मूल्यांकन करने में सक्षम होने के लिए खुफिया सेवाओं की आवश्यकता बढ़ रही है।

एजेंसी सहयोग में वृद्धि: जैसे-जैसे सुरक्षा खतरे नए रूप धारण करते जा रहे हैं, रॉ संभवतः साझा समस्याओं से निपटने के लिए अन्य खुफिया और कानून प्रवर्तन संगठनों के साथ अधिक बार सहयोग करेगा। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) और आतंकवाद विरोधी गतिविधियों में लगे अन्य संगठनों के साथ अधिक समन्वय इसका एक पहलू हो सकता है।

क्षेत्रीय मुद्दों पर जोर: रॉ संभवतः आतंकवाद, विद्रोह और पड़ोसी देशों में अलगाव सहित क्षेत्रीय समस्याओं पर ध्यान केंद्रित रखेगा। भारत की भू-राजनीतिक स्थिति और पाकिस्तान और चीन के साथ जारी शत्रुता को देखते हुए, यह बहुत महत्वपूर्ण है।

वैश्विक उपस्थिति में वृद्धि: जैसे-जैसे भारत विश्व परिदृश्य पर अधिक महत्वपूर्ण स्थान लेने का प्रयास कर रहा है, आने वाले वर्षों में रॉ की वैश्विक उपस्थिति बढ़ने की संभावना है। इसके लिए विदेशी ख़ुफ़िया सेवाओं के साथ सहयोग बढ़ाना और महत्वपूर्ण देशों और क्षेत्रों में ख़ुफ़िया जानकारी एकत्र करना शामिल हो सकता है।

इन चुनौतियों और अवसरों को संभालने के लिए रॉ को राष्ट्रीय सुरक्षा की बदलती जरूरतों के जवाब में विकसित होते रहने और अनुकूलन करने की आवश्यकता होगी। इसमें नए दृष्टिकोणों का निर्माण, नए कर्मियों का अधिग्रहण और नए उपकरणों और प्रतिभाओं का उपयोग शामिल हो सकता है। आने वाले वर्षों में रॉ भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती रहेगी, हालांकि यह देश की सबसे महत्वपूर्ण खुफिया एजेंसियों में से एक है।

Source

रॉ इंडिया कितनी ताकतवर है?

रॉ भारत की सबसे मजबूत एजेंसी है, जो प्रासंगिक जानकारी इकट्ठा करने के लिए चुपचाप दुनिया भर में एजेंटों को फैलाती है। रॉ की आवश्यकता भारत-चीन युद्ध (1962) और भारत-पाक युद्ध (1965) के बाद महसूस की गई। इस शक्तिशाली संस्था की स्थापना इसके पहले निदेशक, रामेश्वर नाथ काव (Rameshwar Nath Kao) ने सितंबर 1968 में की थी।

क्या रॉ एक कठिन काम है?

यह नौकरी अत्यधिक सम्मानित है और कई लोग इसके लिए आवेदन करते हैं। चूँकि यह एक शीर्ष-गुप्त ख़ुफ़िया एजेंसी है, इसलिए रॉ एजेंट बनना एक कठिन प्रयास है। मिशन को समय पर पूरा करने के लिए व्यक्तियों को मानसिक और शारीरिक रूप से मजबूत होना चाहिए।

R&AW की स्थापना कब हुई?

R&AW की स्थापना 21 सितंबर 1968 को भारत-चीन युद्ध के बाद की गई थी। इसका मुख्यालय दिल्ली में स्थित है।

Leave a Comment