गुमनाम हीरो: रणछोड़दास पागी की कहानी | Ranchordas Pagi Biography in Hindi

ranchordas pagi biography in hindi

गुमनाम हीरो: रणछोड़दास पागी की कहानी, Ranchordas Pagi Biography in Hindi, रणछोड़दास रबारी: 1965 के भारत-पाकिस्तान युद्ध और 1971 के भारत-पाकिस्तान युद्ध में अहम भूमिका निभानेवाले इस शख्स ने हाथ में बिना बंदूक लिए अपने हुनर ​​से पाकिस्तान को ऐसे जख्म दिए जो पकिस्तान कभी नहीं भूलेगा।

1971 का युद्ध फील्ड मार्शल सैम मानेकशॉ के नाम के बिना अधूरा है। उस साल पाकिस्तान के खिलाफ जीत का कारण यही शख्स है। बांग्लादेश को स्वतंत्र देश बनाने में फील्ड मार्शल मानेकशॉ का बहुत बड़ा योगदान है, लेकिन एक और नाम जो बताने लायक है वो है रणछोड़दास पागी।

द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान मानेकशॉ ने बर्मा में 4/12 फ्रंटियर फोर्स रेजिमेंट के साथ एक कप्तान के रूप में कार्य किया, जहां उन्हें जापानियों के खिलाफ जीत मिली। सैम ने कई बार मृत्यु के करीब की स्थितियों का अनुभव किया और युद्ध के मैदान और उससे दूर दोनों जगह मौत को धोखा दिया।

जब इतनी प्रतिष्ठा वाला व्यक्ति ‘रणछोड़दास पागी’ के बारे में बड़ी-बड़ी बातें कहता है, तो कुछ तो बात होगी जो ध्यान देने योग्य है। यह जानने की उत्सुकता चरम पर है कि मानेकशॉ अपने आखिरी दिनों में रणछोड़दास पागी के बारे में क्यों पूछ रहे थे।

आइये इस आर्टिकल में जानते है, भारत के डिफेंडर जिनके लिए फील्ड मार्शल मानेकशॉ ने बनाया विशेष पद, ऐसे गुमनाम हीरो: रणछोड़दास पागी की कहानी

Ranchordas Pagi Biography in Hindi | रणछोड़दास पागी जीवनी

रणछोड़ पागी गुजरात के बनासकांठा जिले के मूल निवासी थे, उनका जन्म 1901 में, पाकिस्तान के थारपाकर के एक छोटे से गाँव पेथापुर गढ़दा में हुआ था। उनकी माता का नाम नाथीबा और पिता का नाम सवाभाई था, जिनका अल्पायु में ही निधन हो गया। रणछोड़ का पालन-पोषण उनकी मां ने किया। पाकिस्तान में उनका एक खुशहाल परिवार था, उनके पास 300 एकड़ जमीन और गाय, भेड़, बकरी और ऊंट जैसे 300 से अधिक जानवर थे। उन्होंने अपने घर में 20 से 25 पुरुषों को रोजगार दिया था जिनके कई वंशज अब थराद के शिवनगर गांव में रहते हैं।

असली नाम:रणछोड़दास रबारी
निकनेम:रणछोड़दास पागी
जन्मतिथि:1901
जन्म स्थान:पेथापुर- गढ़दा (अब पाकिस्तान)
पिता का नाम:सवाभाई
माता का नाम:नाथीबा
पत्नी का नाम:सागनाबेन
बच्चों के नाम:मदेवभाई और लक्ष्मणभाई दो बेटे और दो बेटियां
मृत्यु:17 जनवरी 2013 (लिम्बाला गांव, वाव तालुका, बनास कांथा जिला गुजरात)
पुरस्कार:संग्राम पदक, पुलिस पदक और ग्रीष्मकालीन सेवा स्टार पुरस्कार

1947 में, भारत और पाकिस्तान के विभाजन के दौरान, Ranchordas Pagi और उनके परिवार ने पाकिस्तानी सैनिकों की प्रताड़ना से तंग आकर, चार पाकिस्तानी पुलिसकर्मियों को बाँध दिया और अपने पूरे परिवार और मवेशियों के साथ भारत आ गये। 1950 में, वे गुजरात के राघनेसाडा गाँव में बस गए और बाद में मोसल लिम्बाला गाँव में एक स्थायी निवास स्थापित किया।

विभाजन के बाद कई वर्षों तक पाकिस्तान से कई लोग भारत आते रहे, जिनमें से कई गुजरात के थराद, वाव पंथक और कच्छ में स्थायी रूप से बस गए। 1965 और 1971 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के दौरान Ranchordas Pagi ने भारतीय सेना की बहुत मदद की थी।

रणछोड़दास पागी कच्छ-बनासकांठा के सुदूर गाँव में रहते थे, जहाँ की भूमि इतनी समतल और विशाल थी कि हर दिशा में मीलों तक देखा जा सकता था। Ranchordas Pagi ने व्यक्तियों की संख्या और उनके पैरों के निशान से उनका वजन निर्धारित करने की अनूठी कला में महारत हासिल की। वह एक पशुपालक थे और इस कौशल ने अंततः उन्हें भारतीय सेना के लिए एक मूल्यवान संपत्ति बना दिया।

1965 में, जब पाकिस्तान ने कच्छ के कुछ हिस्सों पर कब्जा कर लिया, तो भारतीय सेना को अपना रास्ता खोजने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ा। Ranchordas Pagi ने कदम बढ़ाया और रेगिस्तान में एक छोटे और सुरक्षित मार्ग से सेना का नेतृत्व किया। इस दौरान उन्होंने छुपे हुए करीब 1200 पाकिस्तानी सैनिकों का भी पता लगाया और उन्हें पकड़ लिया। इस घटना ने भारतीय सेना के एक विश्वसनीय सहयोगी के रूप में उनकी जगह मजबूत कर दी।

Career as a Pagi | पागी के रूप में करियर

1962 में, 58 वर्ष की आयु में, रणछोड़दास पागी को बनासकांठा पुलिस आयुक्त वनराज सिंह द्वारा सुइगाम पुलिस स्टेशन में ‘पागी’ के रूप में नियुक्त किया गया। वह पैरों के निशान पढ़ने में इतने कुशल थे कि वह केवल उसके पैरों के निशान देखकर ही बता देते थे कि ऊँट पर कितने लोग सवार हैं। वह मानव पैरों के निशानों से वजन से लेकर उम्र तक हर चीज का अनुमान लगाने में सक्षम थे और इस बारे में सटीक जानकारी दे सकते थे कि निशान कितने समय पहले बने थे और व्यक्तियों ने कितनी दूर तक यात्रा की है।

1971 के युद्ध के दौरान, भारतीय सेना को पाकिस्तान की ओर से भारी गोलाबारी के कारण हथियार और राशन पहुंचाने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ा। जनरल सैम मानेकशॉ ने रेगिस्तान के जानकार Ranchordas Pagi से मदद मांगी। रणछोड़ पागी ने पालीनगर चेकपोस्ट के पास एडिंगोस को तैनात करके रेगिस्तानी क्षेत्र की छोटी सड़कों के माध्यम से भारतीय सेना के लिए एक आपूर्ति लाइन की स्थापना की।

वह स्वयं भारतीय सेना के 50 किमी दूर एक अन्य छावणी से, ऊंटों पर गोला-बारूद लेकर आए और सेना तक पहुंचाया, जिससे भारतीय वायु सेना के लड़ाकू विमानों को धोरा और भालवा ठिकानों पर कब्जा करने में मदद मिली। रणछोड़ पागी की गोला-बारूद की समय पर डिलीवरी ने उन्हें जनरल मानेकशॉ से ‘रेगिस्तानी मोर्चे पर एक आदमी की सेना (One Man Army at the Desert Front)’ का खिताब दिलाया, जो उन पर गहरा भरोसा करते थे।

1971 के युद्ध के दौरान, जब जनरल सैम मानेकशॉ ने पाकिस्तान की हार का जश्न मनाने के लिए दिल्ली में एक भव्य विजय पार्टी का आयोजन किया, तो Ranchordas Pagi को आमंत्रित किया गया। वह अपने साथ रोटी, सूखी लाल मिर्च और प्याज लेकर आये थे। रास्ते में सैम मानेकशॉ ने उन्हें लेने के लिए हेलिकॉप्टर भेजा, लेकिन हेलिकॉप्टर पर चढ़ते वक्त उनके खाने के पैकेट जमीन पर छूट गए। उन्हें वापस लाने के लिए हेलीकॉप्टर को वापस नीचे उतारा गया।

जब सैन्य अधिकारियों ने पूछा कि वे यह सब खाना क्यों लाए, क्योंकि पार्टी में कई व्यंजन परोसे जाएंगे, तो रणछोड़ पागी ने जवाब दिया, “मुझे यह खाना पसंद है।” सभी को आश्चर्यचकित करते हुए, उन्होंने पार्टी के व्यंजन छोड़ दिए और अपने साथ लाए भोजन में से रोटी, मिर्च और प्याज खाने बैठ गए। यह देखकर मानेकशॉ ने भी रणछोड़ पागी के घर की रोटी और प्याज खाया।

Ranchordas Pagi Death | रणछोड़ पागी निधन

18 जनवरी, 2013 को 112 वर्ष की आयु में उनका निधन हो गया। रणछोड़दास पागी रबारी की अंतिम इच्छा थी कि उनके अंतिम संस्कार के दौरान उनके सिर पर पगड़ी हो और उनका अंतिम संस्कार उनके ही खेत में किया जाए। उनका दाह संस्कार उनकी इच्छा के अनुरूप ही किया गया।

उन्होंने सम्मान के तौर पर भारतीय सेना द्वारा दिए गए कोट और पदक को धारण किया, लेकिन अपने द्वारा किए गए महान कार्य के लिए उनके मन में कोई गर्व की भावना नहीं थी। उनके बेटे और पोते भी भारतीय सेना और पुलिस बल दोनों में सेवा करते हैं।

Ranchordas Pagi Statue | रणछोड़दास पागी स्टैचू

ranchordas pagi

रणछोड़ पागी की विरासत को याद करने का एक तरीका उनका एक स्टैचू है, जो उत्तरी गुजरात के अंतरराष्ट्रीय सीमा क्षेत्र में गुजरात के बनासकांठा जिले के सुइगाम की एक सीमा चौकी पर स्थापित की गई है। यह पहली बार था कि किसी सैन्य चौकी का नाम किसी आम आदमी के नाम पर रखा गया है और उसकी मूर्ति भी स्थापित की गई है।

स्टैचू में Ranchordas Pagi को उनकी पारंपरिक पोशाक में, एक छड़ी और एक बैग पकड़े हुए, उनके चेहरे पर गर्व और आत्मविश्वास की अभिव्यक्ति के साथ दर्शाया गया है। इस स्टैचू का उद्घाटन 2008 में गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया था। यह स्टैचू रणछोड़ पागी (Ranchordas Pagi) के साहस, निष्ठा और राष्ट्र के प्रति योगदान का प्रतीक है।

Ranchordas Pagi Awards | पुरस्कार

  • भारत के सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) ने उनके सम्मान में अपनी एक चौकी का नाम रणछोड़ पागी के नाम पर रखा है।
  • उनके योगदान की स्मृति में चौकी पर एक प्रतिमा (statue) भी लगाई गई है।
  • उनकी सेवाओं के लिए उन्हें पुलिस और सीमा सुरक्षा बल दोनों द्वारा सम्मानित किया गया था।
  • उन्हें संग्राम पदक, पुलिस पदक और ग्रीष्मकालीन सेवा स्टार पुरस्कारों से सम्मानित किया गया।
  • 2007 में गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने पालनपुर में आयोजित स्वतंत्रता दिवस समारोह में उन्हें सम्मानित किया।

ऐसे वीर सपूत को शत-शत नमन, जिन्होंने सेना में न होते हुए भी वीराने में वीर सैनिक की भाँति अपना सम्पूर्ण जीवन माँ भारती की रक्षा में समर्पित कर दिया।

रणछोड़दास पागी कौन थे?

रणछोड़दास पागी जिनका असली नाम रणछोड़दास रबारी था, भेड़, बकरी और ऊंट पालने वाले एक साधारण व्यक्ति थे, लेकिन जब 1965 और 1971 में भारत-पाकिस्तान के युद्ध की बात आती है, तो उनका योगदान सबसे अधिक दिखाई देता है।

पागी का मतलब क्या है?

पागी का अर्थ है ‘मार्गदर्शक’, वह व्यक्ति जो रेगिस्तान में रास्ता दिखाता है।

रणछोड़दास पागी का जन्म कहाँ हुआ था?

रणछोड़दास पागी का जन्म 1901 में पाकिस्तान के थारपारकर के एक छोटे से गाँव पेथापुर गढ़दा में हुआ था। 1947 में भारत और पाकिस्तान के विभाजन के दौरान रणछोड़ और उनका परिवार पाकिस्तानी सैनिकों की यातनाओं से तंग आकर चार पाकिस्तानी पुलिसकर्मियों को बाँध दिया और अपने पूरे परिवार और मवेशियों के साथ भारत आ गये।

रणछोड़दास पागी पर पाकिस्तान ने क्यों रखा था 50,000 रुपये का इनाम?

1947 में भारत और पाकिस्तान के विभाजन के समय रणछोड़ और उसके परिवार ने पाकिस्तानी सैनिकों के अत्याचारों से तंग आकर तीन पाकिस्तानी सैनिकों को मार डाला और भारत आ गये, जिसके कारण पाकिस्तान सरकार ने रणछोड़ के बारे में जानकारी देने या उन्हें पाकिस्तान के हवाले करने के एवज में 50 हजार रुपये का इनाम भी घोषित किया था।

Leave a Comment