कूबर पेडी एक जमीन के अंदर का गांव | Coober Pedy an underground Village

Coober Pedy an underground Village

Coober Pedy an underground Village, कूबर पेडी एक जमीन के अंदर का गांव, Where is this village, Opel capital of the World

जमीन के ऊपर इंसानो की बस्ती होना ये तो कॉमन बात है। लेकिन क्या आपने जमीन के निचे पूरा का पूरा गांव बसते देखा है। एक ऐसा गांव है जो पूरा का पूरा जमीन के निचे याने की underground है, नहीं ना? तो चलिए इस आर्टिकल में एक ऐसे गांव के बारे में जानते है, जो पूरा जमीन के अंदर बसा हुआ है।

Where is this village | कहा है ये गांव

ऑस्ट्रेलिया के ऍडिलेट शहर से 846 किलोमीटर के दुरी पर Coober Pedy नाम का ये गांव Underground बसा हुआ है। जमीन के अंदर बसे हुए गांव के घर ऊपर से भले ही मिटटी का ढेर दिखते हो, लेकिन अंदर से इन घरों को देखकर आपके होश उड़ जायेंगे। इन घरों की बनावट और सजावट किसी महल से कम नहीं है। इस गांव की आबादी लगभग 3500 से 4000 है, और 60 प्रतिशत लोग जमीन के अंदर बने इन आलिशान घरों में रहते है।

Why is Coober Pedy underground | कूबर पेडी जमीन के अंदर क्यों बसा है

दरअसल 1915 में यहाँ पर दुध्या पत्थर (Opel) की खोज के लिए माइनिंग का काम शुरू हुआ था। इस वजह से यहाँ पर रहनेवाले लोगों को बहुत ही मुश्किलों का सामना करना पड़ता था। हर रोज रहने की परेशानी होने पर लोगों ने माइनिंग ख़तम होने के बाद कही और जाने के बजाय यहाँ के माइंस में ही अपना घर बना लिया।

Interesting Facts About Coober Pedy Village | कूबर पेडी गांव के बारे में रोचक तथ्य

Coober Pedy Village से 95 फीसदी ओपल (Opel) याने की कूबर पाया जाता है, इसलिए इस गांव को ओपल कैपिटल ऑफ़ द वर्ल्ड (Opel capital of the World) भी कहा जाता है। ओपल (Opel) एक दुध्या रंग का कीमती पत्थर है।

अंडरग्राउंड बने इन घरों की बनावट बहुत आलिशान और टेम्प्रेचर को ध्यान में रखते बनायीं गयी है। इन घरों में गर्मियों में न तो AC की जरुरत पड़ती है और नहीं सर्दियों में हीटर की। सभी घरों के दरवाजे ग्राउंड लेवल पर है। इसके अंदर होटल, स्पा, चर्च, कैसिनो, पब और कुछ संग्रहालय (Museum) भी है। इतना ही नहीं, यहाँ पर हॉलीवुड के फिल्मों की शूटिंग भी होती रहती है।

वैसे तो Coober Pedy में बारिश काफी कम होती है। यहाँ सालाना औसत 130 मिलीमीटर के आस पास बारिश होती है। इसलिए जमीन के निचे बने घरों को कोई दिक्कत नहीं होती। पर 1939, 1973 और 2014 में यहाँ 24 घंटो में ही इतनी बारिश हुई की पूरा माहौल ख़राब हो गया, और बाढ़ जैसे हालात बन गए। 2014 में तो यहाँ 24 घंटो में ही 115 मिलीमीटर बारिश हुई थी, और पूरा गांव बाढ़ की चपेट में आया था। तब जमीन के अंदर बने इन घरों में ज्यादा दिक्कत हुई थी।

Coober Pedy Village के लोगों की जिंदगी बेहद सरल है। यहाँ की अर्थव्यवस्था ओपल माइनिंग पर निर्भर करती है। लोकल गोल्फ कोर्स यहाँ बहुत ही लोकप्रिय है। इसे अधिकतर रात में खेला जाता है, पर कभी कभी ठन्डे दिनों में भी लोग इसका मजा लेते है क्योंकि यहाँ पेड़ पौधों का जीवन बहुत कम है। यहाँ गोल्फ कोर्स में सिर्फ बंजर जमीन है। रात में गोल्फ चमकदार बॉल से खेला जाता है।

कुछ समय पहले Coober Pedy के लोगों ने पेड़ लगाने की मोहीम चलायी थी और इसका नतीजा ये हुआ, की अब यहाँ कुछ पेड़ दिख रहे है। नहीं तो पहले गांव का सबसे बड़ा पेड़ मेटल का बना हुआ स्टेचू हुआ करता था।

Interesting Facts About Coober Pedy Village

Coober Pedy Village में कुछ ऐसे घर भी है, जहां जमीन के निचे स्विमिंग पूल भी बना हुआ है। यहाँ तक की लोगों ने अपनी अलमारियां भी अपने हिसाब से डिज़ाइन कर ली है। यहाँ का लगभग हर इंसान ओपल (Opel) पत्थर के माइनिंग से ही कमाई करता है। यहाँ ओपल से बने मोती भी पाए जाते है।

अब सबसे बड़ा सवाल ये है की, इन अंडरग्राउंड घरों को बनाते समय किस टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया है? कैसे उन्हें सुरक्षित रखा है, जिसे की ऊपर चलनेवाले लोग, गाड़िया और पास ही होनेवाली माइनिंग से कही घर की छत गिर न जाये?

तो आपको बता दे की, इन अंडरग्राउंड घरों को बनाने के लिए न सिर्फ इंजिनीअरिंग बल्कि पुराने जमाने के शहरों से प्रेरणा ली गयी है। घरों को बनाने के लिए सैंडस्टोन में धमाका करके गड्ढा बनाया जाता है। फिर हर कमरा गोलाकार डिज़ाइन किया जाता है। ये तुर्की में मिला प्राचीन शहर डेरिंकुयू (Derinkuyu) के जैसा ही है।

दुर्गम इलाका होने के कारण Coober Pedy Village में, पहले बिजली की समस्या होती थी। लेकिन अब इस गांव में विंड मिल और सोलार पैनल बिजली उत्पन्न की जाती है, इसलिए अब यहाँ बिजली की समस्या भी नहीं बची।

Coober Pedy Village कुछ अलग है। पुराने ज़माने की टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करके घरों को बनाया गया है। अगर आप भी इस अनोखे गांव को और वहा के अनोखे जीवन को देखना चाहते हो तो Coober Pedy Village आपका इंतज़ार कर रहा है। तो जाईये ऑस्ट्रेलिया के रेगिस्तान में बसे इस गांव में, आपको बहुत अच्छा लगेगा।

कूबर पेडी क्यों प्रसिद्ध है?

कूबर पेडी में खनन किए जाने वाले कीमती ओपल की वजह से, इस शहर को “ओपल कैपिटल ऑफ़ द वर्ल्ड (Opel capital of the World)” के रूप में जाना जाता है। कूबर पेडी अपने जमीन के नीचे बसें घरों के लिए प्रसिद्ध है, जिसे “डगआउट्स (dugouts)” कहा जाता है।

क्या लोग अभी भी कूबेर पेडी में भूमिगत रहते हैं?

कूबर पेडी ऑस्ट्रेलिया के ओपल खनन (opal mining) इंडस्ट्री का केंद्र है। अब, इसके 60% लोग भूमिगत रहते हैं, और शहर स्थायी जीवन में अग्रणी बन रहा है।

क्या कूबर पेडी देखने लायक है?

कूबर पेडी दक्षिण ऑस्ट्रेलिया में एक छोटा खनन शहर (mining town) है, जो एडिलेड से 850 किमी उत्तर में है। कूबेर पेडी में कुछ अच्छी चीजें हैं, जो इसे घूमने के लिए एक उपयुक्त स्थान बनाती हैं। जमीन के निचे बसें इस गांव के अंदर होटल, स्पा, चर्च, कैसिनो, पब और कुछ संग्रहालय (Museum) भी है। साथ ही, यहाँ पर हॉलीवुड के फिल्मों की शूटिंग होती रहती है।

Leave a Comment